कॉल

मौजूदा पॉलिसी के लिए

प्रीमियम, भुगतान या किसी सर्विसिंग आवश्यकता पर प्रश्न हैं?

हमें कॉल करें:

1 860 266 9966

सोमवार - शनिवार | 10 am - 7 pm IST

कॉल शुल्क लागू

समर्पित एनआरआई हेल्पडेस्क:

+91 22 6251 9966

सोमवार - शनिवार | 10 am - 7 pm IST

कॉल शुल्क लागू

नई पॉलिसी के लिए

क्या आप नई पॉलिसी ऑनलाइन खरीदना चाहते हैं?

हमें कॉल करें:

+91 22 6984 9300

कॉल बैक के लिए छूटी हुई कॉल दें:

+91 11 6615 8748

सोमवार - रविवार | 8 am - 11 pm IST

विशेष रूप से एनआरआई के लिए:

हमें कॉल करें:

+91 11 4473 0240

सोमवार - शनिवार | 9 am - 9 pm IST

कॉल बैक के लिए छूटी हुई कॉल दें:

+91 11 4473 0242

सोमवार - शनिवार | 9 am - 9 pm IST

भाषा

Back Arrow Icon
Close Button

क्या सही बीमा योजना चुनने में सहायता की आवश्यकता है? हमारे विशेषज्ञ से कॉल करें।

क्या सही बीमा योजना चुनने में सहायता की आवश्यकता है? हमारे विशेषज्ञ से कॉल करें।

+91 dropdown arrow

प्लान चुनें dropdown arrow
  • टर्म प्लान
  • सेविंग प्लान
  • वेल्थ प्लान
  • रिटायरमेंट प्लान
  • मुझे नहीं पता/मुझे मदद चाहिए

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड आपको आपकी पॉलिसी, नए उत्पादों और सेवाओं, बीमा समाधान या संबंधित जानकारी पर अपडेट भेजेगी। ऑप्ट-इन करने के लिए यहां चयन करें. नियम एवं शर्तें लागू.

टैक्सेशन का भार : टैक्स का प्रभाव और शिफ्टिंग (स्थानांतरण)

13-10-2022 |

वित्तीय वर्ष का अंत अव्यवस्था का पर्याय बन जाता है क्योंकि बिजनेस और व्यक्ति अपने टैक्स फाइल करवाने के लिए जल्दी करते हैं. अकाउंटस में आखिरी समय में किए गए बदलाव, रसीदें खोजना, खर्चों पर नज़र रखना आदि, इस दौरान आम बात है. इस हड़बड़ी के बीच, आप टैक्स* बेनिफिट के जरिए जितनी हो सके उतनी बचत करने की कोशिश करते हैं.

अगर यह पर्याप्त नहीं है, तो इससे निपटने के लिए टैक्स* शब्दजाल भी हैं. क्या आपने कभी टेक्निकल टैक्सेशन जैसे शब्दों का सामना किया है और खुद को भटका हुआ पाया है?

हम कहते हैं टैक्स, टैक्स भार और टैक्स शिफ्टिंग का प्रभाव है. अब, आप सोच रहे होंगे कि टैक्स भार का मतलब क्या होता है या टैक्सेशन का प्रभाव क्या होता है!

 

चूंकि ये सुनने में जटिल लगते हैं, इसलिए कई लोग उनसे बचते हैं या उन्हें समझने के लिए उसे किसी और पर छोड़ देते हैं. लेकिन इन शब्दों के बारे में जानना आपके टैक्स* के बोझ को कम करने और बचत को बेहतर बनाने के लिए टैक्सेशन के समय का अधिकतम लाभ उठाने में मददगार हो सकता है. आपकी मदद करने के लिए, यहाँ इन शब्दों के लिए सरल स्पष्टीकरण दिया गया है.

टैक्सेशन के प्रभाव, भार और शिफ्टिंग को समझना

  • टैक्स का प्रभाव

    टैक्सेशन का प्रभाव, ख़ासकर प्रभाव शब्द का इस्तेमाल टैक्स के शुरुआती बोझ के बिंदु को परिभाषित करने के लिए किया जाता है*. यह सामान्य जानकारी है कि राशि का बोझ बाँटने के लिए टैक्स* को पार्टियों के बीच बांट दिया जाता है. इसीलिए, जिस पार्टी पर मूल रूप से टैक्स* लगाया जाता है, उस पर टैक्स का प्रभाव दिखता है. उदाहरण के लिए, जब किसी वस्तु, जैसे कि कॉफ़ी पर टैक्स* लगाया जाता है, तो निर्माता पर उस टैक्स* का सीधा बोझ पड़ता है. इसलिए, 'टैक्स का प्रभाव' कॉफ़ी निर्माता पर पड़ता है.

  • टैक्स की शिफ्टिंग (स्थानांतरण)

    जैसा कि नाम से पता चलता है, यह शामिल पक्षों के बीच टैक्स का बोझ उठाने* की कार्रवाई को संदर्भित करता है. शिफ़्टिंग एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में या दो या ज़्यादा लोगों के बीच की जा सकती है. ऊपर दिए गए उदाहरण के साथ आगे बढ़ते हुए, जब कॉफ़ी निर्माता कीमत बढ़ाकर कॉफ़ी डीलर/रिटेलर पर टैक्स* का बोझ शिफ्ट करता है, तो यह टैक्स* में शिफ्टिंग को दर्शाता है.

  • टैक्स भार

    यह शब्द टैक्स के अंतिम स्थिर बिंदु* से संबंधित है. आसान शब्दों में, यह उस व्यक्ति के बारे में है, जो अंततः टैक्स* का बोझ उठाता है. उदाहरण के लिए, अगर कॉफ़ी डीलर/रिटेलर की ओर से टैक्स शिफ्टिंग की प्रक्रिया जारी रहती है, तो उपभोक्ता को प्रॉडक्ट की बढ़ी हुई कीमत चुकाकर टैक्स का भार उठाना पड़ेगा. इस तरह, टैक्स* का भार उपभोक्ता पर होता है.

प्रभाव और टैक्स के भार की प्रमुख बातें

अब जब आपको इन शब्दावली का अर्थ पता चल गया है, तो आइए हम उन्हें बनाने वाली कुछ महत्वपूर्ण बातों पर नज़र डालते हैं:

  • टैक्सेशन प्रभाव तब होता है जब टैक्स* लगाया जाता है. यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है जो पहली बार में टैक्स* का भुगतान करता है.
  • दूसरी ओर, टैक्स से जुड़ा भार, टैक्स साइकिल के आखिर में होता हैं. यह उस व्यक्ति पर निर्भर करता है, जो आखिरकार टैक्स* वहन करता है.
  • शिफ्टिंग टैक्स* के बोझ को ट्रांसफर करने की क्रिया है. इसे ध्यान में रखते हुए, आप टैक्स* के प्रभाव को शिफ्ट कर सकते हैं लेकिन टैक्स* के भार को नहीं.

निजी इनकम में पड़ने वाला प्रभाव और टैक्सेशन की शिफ्टिंग

टैक्स एक्साइज और कस्टम ड्यूटी, सेल्स टैक्स*, वैल्यू एडेड टैक्स आदि, कुछ ऐसे इनडायरेक्ट टैक्स हैं जिनमें कई पक्ष शामिल होते हैं.
 

जैसा कि हमने ऊपर के उदाहरण में देखा, ऐसे मामलों में टैक्स की शिफ्टिंग संभव है. साथ ही, कभी-कभी बिजनेस छूट देकर टैक्स के बोझ को आपसे शेयर कर सकते हैं.

 

लेकिन डायरेक्ट टैक्स का क्या, जैसे कि आपका पर्सनल इनकम टैक्स? इनकम टैक्स के संदर्भ में टैक्स का भार और प्रभाव कैसे काम करता है?

जब पर्सनल इनकम टैक्स* की बात आती है, तो आप पर टैक्स* इम्पोज़ किया जाता है और आपको इसका भुगतान करना होता है. इसका मतलब है कि टैक्स का प्रभाव और भार एक व्यक्ति पर पड़ता है, वो आप हैं. चूंकि टैक्स प्रभाव का मतलब टैक्स* के बोझ का आखिरी पॉइंट होता है, इसलिए यहाँ शिफ्टिंग का कोई चलन नहीं है.
 

हालाँकि, इसका मतलब यह नहीं है कि टैक्स के भार से आपको बहुत कम या बिना किसी बचत के फ़ायदा होगा.

टैक्स* सिस्टम को न केवल राजस्व कमाने के लिए डिज़ाइन किया गया है, बल्कि बहुत सारे टैक्स का उचित वितरण भी सुनिश्चित किया गया है. इसके अलावा, यह आपको टैक्स* बेनिफिट और कटौतियां भी देता है, जिससे आप अपनी सेविंग बढ़ा सकते हैं.

हालाँकि, आखिरी समय में फाइनेंस और टैक्स की योजना बनाने से धन सृजन की संभावना के लिए शायद ही कोई जगह बचती है. आज, कई इंस्ट्रूमेंट और फ़ंड आपको अपने लक्ष्यों और रिटायरमेंट के लिए सेविंग करने में मदद करते हैं. वित्तीय योजना बनाने से आपको आर्थिक रूप से सुरक्षित बनने के लिए प्रासंगिक निवेश विकल्पों में से अपने फाइनेंस को बांटने में मदद मिलेगी.
 

लाइफ़ इंश्योरेंस प्लान के टैक्स बेनिफिट
 


अपनी लाइफ का इंश्योरेंस करवाना निस्संदेह फाइनेंशियल प्लानिंग का एक महत्वपूर्ण पहलू है.

यह न केवल आपकी आकस्मिक मृत्यु की स्थिति में आपके परिवार को वित्तीय सुरक्षा प्रदान करता है, बल्कि कई पॉलिसियाँ भी सेविंग के बेनिफिट के साथ आती हैं. उदाहरण के लिए, यूनिट लिंक्ड इंश्योरेंस प्लान. इस तरह, आप अपने परिवार की सुरक्षा कर सकते हैं और जीवन की महत्वपूर्ण पड़ावों के लिए भी सेविंग कर सकते हैं. इन सबके अलावा, लाइफ़ इंश्योरेंस में टैक्स* बेनिफिट दिए जाते हैं, जैसा कि नीचे बताया गया है:

 

  • आप लाइफ इंश्योरेंस प्लान के लिए जो प्रीमियम देते हैं, वह भारतीय इनकम टैक्स अधिनियम* , 1961 की धारा 80C के तहत कटौती के लिए पात्र हैं. आप ₹1,50,000 की सीमा तक कटौती के लिए क्लेम कर सकते हैं. ध्यान दें कि यह तभी लागू होता है, जब भुगतान किए गए प्रीमियम, सम एश्योर्ड (बीमा राशि) का 20% हों. 1 अप्रैल 2012 के बाद जारी पॉलिसियों के लिए, ये कटौतियां उन प्रीमियमों पर लागू हैं, जो सम एश्योर्ड (बीमा राशि) का 10% हैं.
  •  

  • आपके इंश्योरेंस से मिलने वाले क्लेम मैच्योरिटी जैसे पेआउट पर भी सेक्शन 10 (10D) के तहत कटौती की जा सकती है. डेथ बेनिफ़िट और मेच्योरिटी या पॉलिसी सरेंडर करने पर मिलने वाले बोनस2, टैक्स* फ्री हैं. यह सेक्शन आपको यूलिप से हुए मुनाफे में कटौती करने की सुविधा भी देता है.

 

निष्कर्ष

हर कोई अपने जीवन में वित्तीय स्थिरता चाहता है. और लाइफ़ इंश्योरेंस आपके प्रियजनों को सुरक्षित रखने के साथ-साथ धन इकट्ठा करने का भी मार्ग प्रशस्त करता है. चुनने के लिए कई प्लान के साथ, आप बस कुछ ही क्लिक में लाइफ़ इंश्योरेंस ऑनलाइन खरीद सकते हैं. टाटा एआईए लाइफ़ इंश्योरेंस चुनने के लिए टैक्स* बचाने वाले लाभों के साथ बहुत सारे विकल्प प्रदान करता है. तो, क्यों न अपने वित्तीय लक्ष्यों को हासिल करने के लिए इसका फायदा उठाया जाए?

L&C/Advt/2023/Apr/1191

टैक्स बचाने के लिए वित्तीय समाधान ढूंढ रहे हैं? हमारे विशेषज्ञ से बात करें

+91 dropdown arrow
  • +93 Afghanistan

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड आपको आपकी पॉलिसी, नए उत्पादों और सेवाओं, बीमा समाधान या संबंधित जानकारी पर अपडेट भेजेगा। ऑप्ट-इन करने के लिए यहां चुनें।


 

क्या आप नया इंश्योरेंस प्लान खरीदना चाहते हैं?

हमारे एक्सपर्ट्स को आपकी मदद करने दें!

+91

प्लान चुनें
  • टर्म प्लान
  • सेविंग प्लान
  • रिटायरमेंट प्लान
  • वेल्थ प्लान
  • मुझे नहीं पता/मुझे मदद चाहिए

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड आपको आपकी पॉलिसी, नए उत्पादों और सेवाओं, बीमा समाधान या संबंधित जानकारी पर अपडेट भेजेगा. ऑप्ट-इन करने के लिए यहां चुनें.

लोग ऐसे ब्लॉग भी पढ़ना पसंद करते हैं

अपनी वृद्धावस्था पेंशन कैसे चेक करें?
और पढ़ें
गारंटीड रिटर्न इंश्योरेंस प्लान क्या है? | टाटा एआईए ब्लॉग
और पढ़ें
अमीर रिटायर होने में आपकी मदद करने के लिए 6 स्टेप्स
और पढ़ें
बजट बनाना क्या है और यह निवेश की योजना बनाने में कैसे मदद करता है?
और पढ़ें
नई कर व्यवस्था में उपलब्ध महत्वपूर्ण कटौती कौन-सी हैं?
और पढ़ें
6 कारण क्यों आपको बिज़नेस इंश्योरेंस कवरेज की ज़रूरत पड़ती है
और पढ़ें
घर से काम करते हुए कमाई करने के लिए 5 स्टेप जो आपको अपनाने चाहिए
और पढ़ें
रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए लाइफ इंश्योरेंस प्लान्स के प्रकार? | टाटा एआईए ब्लॉग
और पढ़ें
भारतीय अपने पैसे कहाँ निवेश करते हैं, इसका ब्रेकअप
और पढ़ें
वर्किंग प्रोफेशनल्स के लिए फाइनेंशियल प्लान वार्सिस इन्वेस्टमेंट प्लान
और पढ़ें

लोग ऐसे ब्लॉग भी पढ़ना पसंद करते हैं

अपनी वृद्धावस्था पेंशन कैसे चेक करें?
और पढ़ें
गारंटीड रिटर्न इंश्योरेंस प्लान क्या है? | टाटा एआईए ब्लॉग
और पढ़ें
अमीर रिटायर होने में आपकी मदद करने के लिए 6 स्टेप्स
और पढ़ें
बजट बनाना क्या है और यह निवेश की योजना बनाने में कैसे मदद करता है?
और पढ़ें
नई कर व्यवस्था में उपलब्ध महत्वपूर्ण कटौती कौन-सी हैं?
और पढ़ें
6 कारण क्यों आपको बिज़नेस इंश्योरेंस कवरेज की ज़रूरत पड़ती है
और पढ़ें
घर से काम करते हुए कमाई करने के लिए 5 स्टेप जो आपको अपनाने चाहिए
और पढ़ें
रिटायरमेंट प्लानिंग के लिए लाइफ इंश्योरेंस प्लान्स के प्रकार? | टाटा एआईए ब्लॉग
और पढ़ें
भारतीय अपने पैसे कहाँ निवेश करते हैं, इसका ब्रेकअप
और पढ़ें
वर्किंग प्रोफेशनल्स के लिए फाइनेंशियल प्लान वार्सिस इन्वेस्टमेंट प्लान
और पढ़ें
Website Logo Image Icon

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस

यह टाटा संस प्रा. लिमिटेड और एआईए ग्रुप लिमिटेड (एआईए) एक संयुक्त उद्यम है, टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस भारत में अग्रणी जीवन बीमा प्रदाताओं में से एक है. हम लाइफ इंश्योरेंस, टैक्स सेविंग और दूसरे विभिन्न विषय जैसे सेविंग और निवेश के बारे में भी यहाँ पोस्ट करते हैं जिसके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए। आप टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस नॉलेज सेंटर में विभिन्न ब्लॉग, लेख और पेज देख और पढ़ सकते हैं या किसी भी पूछताछ या सवाल के बारे में हमसे संपर्क कर सकते हैं!

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस के सभी पोस्ट देखें

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल

इम्पैक्ट शिफ्टिंग क्या है?

टैक्स का असर उस व्यक्ति पर पड़ता है, जिसे मूल रूप से टैक्स चुकाना पड़ता था. जब यह व्यक्ति किसी प्रॉडक्ट या सर्विस की कीमत बढ़ाकर दूसरे व्यक्ति पर टैक्स* का बोझ ट्रांसफर करता है, तो इसे इम्पैक्ट शिफ्टिंग कहा जाता है. 

क्या टैक्स से संबंधित मामले ट्रांसफर किए जा सकते हैं?

भार उस व्यक्ति पर होता है, जिसे अंततः टैक्स चुकाना पड़ता है. यह इस साइकिल का आखिरी पॉइंट होता है; इस तरह, आप बोझ को शिफ्ट नहीं कर सकते. हालाँकि, आप लाइफ़ इंश्योरेंस प्लान जैसे इंस्ट्रूमेंट में निवेश करके और कटौती का क्लेम करके टैक्स* के भारों को कम कर सकते हैं.

अस्वीकरण

  • इस प्रॉडक्ट के तहत इंश्योरेंस कवर उपलब्ध है.
  • इन प्रोडक्ट्स को टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड द्वारा अंडरराइट किया गया है.
  • ये प्लान गारंटीड जारी किया गया प्लान नहीं है, और वे कंपनी की अंडरराइटिंग और स्वीकृति के अधीन होंगे.
  • जोखिम वाले कारकों, नियमों और शर्तों के बारे में ज़्यादा जानकारी के लिए कृपया खरीदने से पहले सेल्स ब्रोशर को ध्यान से पढ़ें.
  • यह ब्लॉग केवल जानकारी और उदाहरण के उद्देश्यों के लिए है और किसी भी वित्तीय या निवेश सेवाओं का उद्देश्य नहीं है और किसी भी प्रस्ताव या सिफारिश का हिस्सा नहीं है. यह जानकारी निवेश सलाह या किसी ख़ास सुरक्षा या कार्रवाई के संबंध में सुझाव के तौर पर नहीं है और इसे किसी ख़ास सुरक्षा या कार्रवाई के बारे में सुझाव के तौर पर नहीं माना जाना चाहिए.
  • कृपया अपने इंश्योरेंस एजेंट या इंटरमीडियरी या इंश्योरेंस कंपनी द्वारा जारी पॉलिसी दस्तावेज़ से संबंधित जोखिमों और लागू शुल्कों के बारे में जानकारी लें.
  • यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाता है कि इस ब्लॉग में दी गई सभी जानकारी प्रकाशन की तारीख पर सही है, हालांकि, टाटा एआईए लाइफ पर इस सामग्री से संबंधित किसी भी प्रकार के किसी भी नुकसान (गलतियों और चूक सहित लेकिन सीमित नहीं) के लिए कोई दायित्व नहीं होगा.
  • *मौजूदा इनकम टैक्स कानूनों के अनुसार, इनकम टैक्स बेनिफिट मिलेंगे, बशर्ते कि उसमें निर्धारित शर्तो को पूरा किया जाए. इनकम टैक्स कानून बदलाव के अधीन हैं. टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड इस दस्तावेज़ में कहीं भी बताए गए टैक्स संबंधी प्रभावों के लिए ज़िम्मेदारी नहीं लेता है. आपके लिए उपलब्ध टैक्स बेनिफिट के बारे में जानने के लिए कृपया अपने टैक्स सलाहकार से सलाह लें.
  • 1गारंटीड रिटर्न/पेआउट प्लान विकल्प, पॉलिसी टर्म, प्रीमियम पेमेंट टर्म और एंट्री के समय उम्र पर निर्भर करते हैं
  • 2इन बोनस की गारंटी नहीं है. कंपनी सालाना कैश बोनस दरों की घोषणा पहले कर सकती है. घोषित किए जाने पर कैश बोनस लागू होंगे, बशर्ते सभी देय प्रीमियमों का भुगतान कर दिया गया हो.
  • इस पॉलिसी में, निवेश पोर्टफोलियो में निवेश का जोखिम पॉलिसीहोल्डर द्वारा वहन किया जाता है
  • लिंक्ड इंश्योरेंस प्रॉडक्ट कॉन्ट्रैक्ट के पहले पांच सालों के दौरान किसी भी तरह की लिक्विडिटी ऑफ़र नहीं करते हैं. पॉलिसीहोल्डर लिंक्ड इंश्योरेंस प्रॉडक्ट्स में निवेश किए गए पैसे को पूरी तरह या पार्शियली रूप से पाँचवे साल के अंत तक सरेंडर/निकाल नहीं पाएगा.
  • पिछली परफॉर्मेंस भविष्य की परफॉर्मेंस का संकेत नहीं है.
  • कंपनी द्वारा किए गए सभी निवेश बाज़ार के जोखिम के अधीन होते हैं. कंपनी किसी भी सुनिश्चित रिटर्न की गारंटी नहीं देती है. बाज़ार को प्रभावित करने वाले कई कारकों के आधार पर निवेश से होने वाली इनकम और कीमत कम होने के साथ-साथ बढ़ भी सकती है.
  • अपने वित्तीय या अन्य पेशेवर सलाहकार से परामर्श करने के बाद कृपया अपना निर्णय खुद लें.