भाषा

कॉल

/content/dam/tataaialifeinsurancecompanylimited/navigations/new-call-us/Close.png

starमौजूदा पॉलिसी के लिए

प्रीमियम, भुगतान या किसी सर्विसिंग आवश्यकता पर प्रश्न हैं?

हमें कॉल करें:

Call Icon 1860 266 9966

समर्पित एनआरआई हेल्पडेस्क:

Call Icon +91 22 6251 9966

सोमवार - शनिवार | भारतीय समयानुसार सुबह 10 बजे से शाम 7 बजे तक
कॉल शुल्क लागू

Plus Iconनई पॉलिसी के लिए

क्या आप नई पॉलिसी ऑनलाइन खरीदना चाहते हैं?

भारतीय निवासियों के लिए

Call Icon +91 22 6984 9300

कॉल बैक के लिए मिस्ड कॉल दें:

Call Icon +91 11 6615 8748

सोमवार - रविवार | भारतीय समयानुसार सुबह 8 बजे से रात 11 बजे तक

विशेष रूप से एनआरआई के लिए

इंटरनेट कॉल आरंभ करें

डेटा शुल्क लागू हो सकते हैं

समर्पित एनआरआई हेल्पडेस्क:

call +91 11 4473 0242

सभी दिन उपलब्ध | 24 x 7

Back Arrow Icon
Close Button
Back Arrow Icon
Close Button

क्या सही बीमा योजना चुनने में सहायता की आवश्यकता है? हमारे विशेषज्ञ से कॉल करें।

क्या सही बीमा योजना चुनने में सहायता की आवश्यकता है? हमारे विशेषज्ञ से कॉल करें।

+91 dropdown arrow

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड आपको आपकी पॉलिसी, नए उत्पादों और सेवाओं, बीमा समाधान या संबंधित जानकारी पर अपडेट भेजेगी। ऑप्ट-इन करने के लिए यहां चयन करें. नियम एवं शर्तें लागू.

इस पॉलिसी में निवेश पोर्टफोलियो में निवेश जोखिम पॉलिसीधारक द्वारा वहन किया जाता है.

जीएसटी आपके इंश्योरेंस प्रीमियम को कैसे प्रभावित करता है?

24-जून-2021 |

"परिवर्तन नाम की निरंतर चलने वाली प्रक्रिया की ओर इशारा करते हुए भगवान बुद्ध ने कहा", परिवर्तन के अलावा कुछ भी स्थिर नहीं है. ऐसा कुछ 1 जुलाई 2017 को हुआ, जब भारत ने सिग्नल टैक्सेशन सिस्टम में कदम रखा, जिसमें कई अलग-अलग स्टेट टैक्स* कानून को खत्म किया गया, जिसे जीएसटी- गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स@ कहा जाता है. 

आइए जीएसटी@ के अर्थ और इंश्योरेंस प्रीमियम पर जीएसटी@ के प्रभावों के बारे में विस्तार से चर्चा करते हैं.

जीएसटी (गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स)@ क्या होता है?

जीएसटीएक इनडायरेक्ट टैक्स है जिसने भारत में प्रचलित अन्य सभी इनडायरेक्ट टैक्स को बदल दिया है. यह मल्टीस्टेज, डेस्टिनेशन-बेस्ड टैक्सेशन है जो वैल्यू एडिशन के हर स्टेप पर टैक्स की कैलकुलेशन करता है. यह वन नेशन वन टैक्स का कॉम्प्रिहेंसिव सिस्टम है. इसे लागू करने के बाद गुड्स और सर्विस की सप्लाई पर लगाया जाता है, यह भारत के लिए सिंगल डोमेस्टिक इनडाइरेक्ट टैक्स कानून बन गया.

जीएसटीटैक्सेशन सिस्टम के तहत, सेल्स के हर पॉइंट पर टैक्स लगाया जाता है. गुड्स की इंटरस्टेट सेल के मामले में - इसके अनुसार दो टैक्स लागू होते हैं, जैसे स्टेट जीएसटी@ और सेंट्रल जीएसटी@.

आजादी के बाद भारत में जीएसटी@ सबसे महत्वपूर्ण टैक्स सुधार बन गया, जिसमें सभी मौजूदा इनडॉयरेक्ट टैक्स जैसे कि सर्विस टैक्स और वैल्यू एडेड टैक्स (वैट), जिसके परिणामस्वरूप सिग्नल टैक्स सिस्टम में मर्ज हो गए. पार्लियामेंट ने 8 अगस्त 2016 को जीएसटी@ बिल पास किया था.

 

जीएसटी@ इंश्योरेंस सेक्टर को कैसे प्रभावित करता है?

पहले, इंश्योरेंस सेक्टर पर स्टैंड-अलोन टैक्स लगाया जाता था, जिसे सर्विस टैक्स कहा जाता था. यह दर लगभग 15% है, जिसमें 14% बेसिक सर्विस टैक्स, 0.5% स्वच्छ भारत सेस, 0.5% कृषि कल्याण सेस शामिल हैं. जैसे ही देश में जीएसटी@ लागू हुआ, सर्विस टैक्स को जीएसटी@ में शामिल कर दिया गया. 

जीएसटीकाउंसिल टैक्स की दरें प्रमुख चार स्लैब दरों 5%, 12%, 18% और 28% के आधार पर तय करती है. दुर्भाग्य से, सर्विस के लिए जीएसटी@ 18% तय किया गया है. चूंकि इंश्योरेंस सेक्टर सर्विस सेक्टर के अंतर्गत आता है, इसलिए इंश्योरेंस सेक्टर में दी जाने वाली किसी भी सर्विस पर नया जीएसटी@ शुल्क लिया जाता है.

इसलिए, इंश्योरेंस जीएसटी@ की दर 1 जुलाई 2017 से शुरू होने वाली 15% की बजाय 18% है, जिस पर पहले शुल्क लिया गया था. टैक्स दर में 3% की इस बढ़ोतरी से इंश्योरेंस पॉलिसियों के प्रीमियम पर असर पड़ा, जिससे प्रीमियम की कीमत बढ़ गई. प्रीमियम पर जीएसटी@ का प्रभाव विशिष्ट पॉलिसियों में अलग-अलग देखा जा सकता है. आइए एक नज़र डालते हैं कि जीएसटी@ पॉलिसी के प्रीमियम को अलग-अलग कैसे प्रभावित करता है.

लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी के प्रीमियम पर जीएसटी@ का प्रभाव 

चूँकि हम जानते हैं कि जीएसटी@ लाइफ इंश्योरेंस सेक्टर के तहत सर्विस प्रदान करने पर लगाया जाने वाला टैक्स है, जीएसटी@ की कैलकुलेशन नीचे के अनुसार की जाती है.

 

  • इन्वेस्टमेंट बेनिफिट वाली लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसियों के लिए, पॉलिसीहोल्डर के लिए निवेश के लिए एलोकेटेड पैसे के साथ कुल प्रीमियम में कटौती किए गए ग्रॉस प्रीमियम पर जीएसटी@ लगाया जाता है. उदाहरण के लिए, यूलिप पॉलिसी में, जीएसटी@ की कैलकुलेशन केवल प्रीमियम को घटाकर निवेश के उद्देश्य से एलोकेट की गई राशि को घटाकर की जाती है.

  • एन्युटी विकल्पों वाली सिंगल प्रीमियम पॉलिसी के लिए, इसकी कैलकुलेशन पॉलिसीहोल्डर द्वारा भुगतान किए जाने वाले प्रीमियम के 10% के रूप में की जाती है. 

 
टर्म इंश्योरेंस पर जीएसटी@

टर्म इंश्योरेंस में, चूंकि पॉलिसीहोल्डर द्वारा भुगतान किया गया प्रीमियमइंश्योर्ड के जीवन की सुरक्षा करने में समाप्त होता है, इसलिए टर्म प्लान के मामले में जीएसटी@ की कैलकुलेशन कुल प्रीमियम पर की जाती है.

एंडोमेंट प्लान्स पर जीएसटी@

एंडोमेंट प्लान में जीएसटी की कैलकुलेशन पहले साल के प्रीमियम के 25% और दूसरे साल और उसके बाद के वर्षों के प्रीमियम के 12.5% पर की जाती है. उदाहरण के लिए, अगर किसी एंडोमेंट प्लान का प्रीमियम रु. 1,00,000 है - पहले साल के लिए, 18% की जीएसटी@ की कैलकुलेशन प्रीमियम के 25% यानी 25,000 रु. और दूसरे साल से शुरू होने वाले बाद के वर्षों में 12,500 रु. पर की जाती है. 

जनरल इंश्योरेंस प्लान्स पर जीएसटी@ का प्रभाव

हेल्थ इंश्योरेंस, ऑटोमोबाइल इंश्योरेंस, ट्रेवल इंश्योरेंस, फायर इंश्योरेंस, मरीन इंश्योरेंस जैसे जनरल इंश्योरेंस प्लान के मामले में, जीएसटी@ की कैलकुलेशन भुगतान किए गए प्रीमियम के 18% के रूप में की जाती है - जो कि पिछले सर्विस टैक्स के 15% से 3% ज्यादा है. इसलिए, इन पॉलिसियों के प्रीमियम में 3% की बढ़ोतरी हुई है. 

इंश्योरेंस सेक्टर पर जीएसटी@ का असर

ज़्यादातर इंश्योरेंस प्रॉडक्ट्स के प्रीमियम में 3% की बढ़ोतरी के प्रभाव से, इंश्योरेंस सेक्टर के मार्केट प्लेयर्स के बीच भयंकर प्रतिस्पर्धा होती है. चूंकि इंश्योरेंस सेक्टर प्रीमियम चार्ज करने के लिए एक प्राइस-सेंसिटिव मार्किट है, इसलिए कंपनियां प्रीमियम कम रखने के लिए अपने परिचालन खर्चों को कम करने की पूरी कोशिश करती हैं. 

चूंकि सभी पॉलिसियों में जीएसटीनिरंतर होता है, इसलिए कस्टमर के लिए पसंदीदा इंश्योरेंस प्रोवाइडर बनने के लिए कंपनियों ने अपने ग्राहक सेवा अनुभव को बेहतर बनाया है; उदाहरण के लिए, टाटा एआईए प्रीमियम पेमेंट ग्राहकों की सुविधा के अनुसार मासिक, वार्षिक, त्रैमासिक प्रीमियम भुगतान का सुविधाजनक भुगतान विकल्प प्रदान करता है. अक्सर प्लान की तुलना करने के लिए कंपनी द्वारा लिए जाने वाले प्रीमियम को इंडिकेटर के तौर पर लिया जाता है. फिर भी, अगर इंश्योरेंस पॉलिसियों का मूल्यांकन करने के लिए इसे कई कारकों में से एक नहीं माना जाता है, तो कस्टमर गंभीर रूप से गलती करेंगे.

इंश्योरेंस का प्राथमिक उद्देश्य इंश्योरेंस के ज़रिए खुद को सुरक्षित रखना और किसी भी दुर्घटना के मामले में क्लेम प्राप्त करना है. ग्राहकों को अंततः इंडिविजुअल डेथ क्लेम सेटलमेंट रेश्यो~ और प्राप्त इंश्योरेंस क्लेम पर जीएसटी@ पर नजर रखनी चाहिए, जो इंश्योरेंस प्रोवाइडर्स की विश्वसनीयता का मूल्यांकन करने के लिए उपयुक्त मापदंड हैं. साथ ही, फ़ायदों के लिए, कवरेज विकल्पों को मूल्यांकन पैरामीटर के तौर पर देखा जाना चाहिए, न कि कंपनियों द्वारा शुल्क लिए जाने वाले प्रीमियम की कीमत पर नज़र रखनी चाहिए.

 

जीएसटी@ के तहत छूट वाली पॉलिसियां

लाइफ इंश्योरेंस पॉलिसी जो भारत सरकार द्वारा दी जाती है, उन पर जीएसटी@ से छूट दी गई है, उदाहरण के लिए, प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना, प्रधानमंत्री जन धन योजना, प्रधानमंत्री वय वंदन योजना, जनश्री बीमा योजना (जेबीवाई), आम आदमी बीमा योजना (एएबीवाई), आदि. 

जीएसटी@ और जीएसटी@ छूट वाली पॉलिसी में इनपुट टैक्स क्रेडिट क्या हैं? 

 

इनपुट टैक्स क्रेडिट, आउटपुट पर टैक्स चुकाने के समय को संदर्भित करता है - इनपुट में कोई भी उस राशि पर राहत का क्लेम कर सकता है, जिसके लिए पहले ही टैक्स चुकाया जा चुका है. यह सुविधा इंश्योरेंस ख़रीदने वाले सिनेरियो के बहुत कम मामलों पर ही लागू होती है.

यह सुविधा लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस के प्रीमियम पर उपलब्ध नहीं है क्योंकि वे सिर्फ़ निजी इस्तेमाल के लिए हैं. कॉर्पोरेट पॉलिसीहोल्डर की लाइफ और हेल्थ इंश्योरेंस पॉलिसीज़ भी किसी भी इनपुट टैक्स क्रेडिट के लिए योग्य नहीं हैं; ग्रुप कंपनियों की जनरल इंश्योरेंस पॉलिसियों के लिए भुगतान किए जाने वाले एकमात्र प्रीमियम पर जीएसटी@ व्यवस्था के तहत इनपुट टैक्स क्रेडिट दिया जाएगा. 

निष्कर्ष


जीएसटी@ के लागू करने से निस्संदेह कई इंश्योरेंस पॉलिसियों के प्रीमियम बढ़ जाते हैं, जिन्हें वे पहले ही ले चुके हो या जिन्हें जल्द लेने का इरादा हो सकता है. इससे भी ज़्यादा ज़रूरी बात यह है कि समय निकालकर उन पॉलिसी की विशेषताओं को एक्सेस करें और उनका मूल्यांकन करें जिन्हें चुना है. बाज़ार में ऑफ़र की जाने वाली अन्य पॉलिसियों के संबंध में वे जो फ़ायदे दे रहे हैं, उस पर विचार करें और भले ही इसका प्रीमियम थोड़ा ज़्यादा हो, कॉम्प्रिहेंसिव कवरेज प्रदान करने वाला प्लान चुनें. पॉलिसी के चयन से संबंधित स्मार्ट फैसलों से भविष्य में कोई भी क्लेम होने पर हजारों रुपये की बचत हो सकती है. 

 

L&C/Advt/2023/Jul/2394

टैक्स बचाने के लिए वित्तीय समाधान ढूंढ रहे हैं? हमारे विशेषज्ञ से बात करें

+91 dropdown arrow
  • +93 Afghanistan

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड आपको आपकी पॉलिसी, नए उत्पादों और सेवाओं, बीमा समाधान या संबंधित जानकारी पर अपडेट भेजेगा। ऑप्ट-इन करने के लिए यहां चुनें।


 

क्या आप नया इंश्योरेंस प्लान खरीदना चाहते हैं?

हमारे एक्सपर्ट्स को आपकी मदद करने दें!

+91

प्लान चुनें
  • टर्म प्लान
  • सेविंग प्लान
  • रिटायरमेंट प्लान
  • वेल्थ प्लान
  • मुझे नहीं पता/मुझे मदद चाहिए

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड आपको आपकी पॉलिसी, नए उत्पादों और सेवाओं, बीमा समाधान या संबंधित जानकारी पर अपडेट भेजेगा. ऑप्ट-इन करने के लिए यहां चुनें.

लोग ऐसे ब्लॉग भी पढ़ना पसंद करते हैं

NRI प्रवासी पेंशन योजना: पात्रता और आवेदन प्रक्रिया - Tata AIA
और पढ़ें
बीमा रहित होने के परिणाम - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
जीवन बीमा पॉलिसी के जरिए टैक्स कैसे बचाएं? - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
7 रिलेशनशिप टिप्स - ये चीज़ें हर जोड़े को शादी से पहले एक साथ करनी चाहिए - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
धन प्रबंधन युक्तियाँ - जाने निवेश का सबसे अच्छा तरीका और स्मार्ट चीज़े - Tata AIA
और पढ़ें
अनिश्चित भविष्य के लिए फाइनेंशियल प्लान बनाने के 4 तरीके
और पढ़ें
भारत का यूनियन बजट — यह इतना ज़रूरी क्यों है?
और पढ़ें
आपके बुजुर्ग माता-पिता की देखभाल के लिए एक फाइनेंशियल प्लानिंग - Tata AIA
और पढ़ें
अत्यधिक सफल लोगों के 5 सबसे आम फाइनेंशियल प्लानिंग पछतावे - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
सीखिए वित्तीय अनिश्चितता से निपटने के पाँच तरीके - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें

लोग ऐसे ब्लॉग भी पढ़ना पसंद करते हैं

NRI प्रवासी पेंशन योजना: पात्रता और आवेदन प्रक्रिया - Tata AIA
और पढ़ें
बीमा रहित होने के परिणाम - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
जीवन बीमा पॉलिसी के जरिए टैक्स कैसे बचाएं? - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
7 रिलेशनशिप टिप्स - ये चीज़ें हर जोड़े को शादी से पहले एक साथ करनी चाहिए - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
धन प्रबंधन युक्तियाँ - जाने निवेश का सबसे अच्छा तरीका और स्मार्ट चीज़े - Tata AIA
और पढ़ें
अनिश्चित भविष्य के लिए फाइनेंशियल प्लान बनाने के 4 तरीके
और पढ़ें
भारत का यूनियन बजट — यह इतना ज़रूरी क्यों है?
और पढ़ें
आपके बुजुर्ग माता-पिता की देखभाल के लिए एक फाइनेंशियल प्लानिंग - Tata AIA
और पढ़ें
अत्यधिक सफल लोगों के 5 सबसे आम फाइनेंशियल प्लानिंग पछतावे - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
सीखिए वित्तीय अनिश्चितता से निपटने के पाँच तरीके - Tata AIA Life Insurance
और पढ़ें
Website Logo Image Icon

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस

यह टाटा संस प्रा. लिमिटेड और एआईए ग्रुप लिमिटेड (एआईए) एक संयुक्त उद्यम है, टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस भारत में अग्रणी जीवन बीमा प्रदाताओं में से एक है. हम लाइफ इंश्योरेंस, टैक्स सेविंग और दूसरे विभिन्न विषय जैसे सेविंग और निवेश के बारे में भी यहाँ पोस्ट करते हैं जिसके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए। आप टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस नॉलेज सेंटर में विभिन्न ब्लॉग, लेख और पेज देख और पढ़ सकते हैं या किसी भी पूछताछ या सवाल के बारे में हमसे संपर्क कर सकते हैं!

टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस के सभी पोस्ट देखें

अस्वीकरण
  • इस प्रॉडक्ट के तहत इंश्योरेंस कवर उपलब्ध है.

  • प्रोडक्ट को टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड द्वारा अंडरराइट किया गया है.

  • प्लान्स गारंटीड जारी किये गए प्लान नहीं है, और वे कंपनी की अंडरराइटिंग और स्वीकृति के अधीन होंगे.

  • जोखिम वाले कारकों, नियमों और शर्तों के बारे में ज़्यादा जानकारी के लिए कृपया खरीदने से पहले सेल्स ब्रोशर को ध्यान से पढ़ें.

  • यह ब्लॉग केवल जानकारी और उदाहरण के लिए है और यह किसी वित्तीय या निवेश सेवाओं के लिए अभिप्राय नहीं करता है और किसी ऑफ़र या सुझाव का हिस्सा नहीं है. यह जानकारी निवेश सलाह या किसी ख़ास सुरक्षा या कार्रवाई के संबंध में सुझाव के तौर पर नहीं है और इसे किसी ख़ास सुरक्षा या कार्रवाई के बारे में सुझाव के तौर पर नहीं माना जाना चाहिए.

  • कृपया अपने इंश्योरेंस एजेंट या इंटरमीडियरी या इंश्योरेंस कंपनी द्वारा जारी पॉलिसी दस्तावेज़ से संबंधित जोखिमों और लागू शुल्कों के बारे में जानकारी लें.

  • यह सुनिश्चित करने के लिए हर संभव प्रयास किया जाता है कि प्रकाशन की तारीख तक इस ब्लॉग में दी गई सभी जानकारी सही हो, हालाँकि, इस सामग्री से संबंधित किसी भी तरह के नुकसान (गलतियों और चूक सहित लेकिन इन्हीं तक सीमित नहीं) के लिए टाटा एआईए लाइफ की कोई ज़िम्मेदारी नहीं होगी.

  • *मौजूदा इनकम टैक्स कानूनों के अनुसार, इनकम टैक्स बेनिफिट मिलेंगे, बशर्ते कि उसमें निर्धारित शर्तें पूरी की जाएं. इनकम टैक्स कानून बदलाव के अधीन हैं. टाटा एआईए लाइफ इंश्योरेंस कंपनी लिमिटेड इस दस्तावेज़ में कहीं भी बताए गए टैक्स संबंधी प्रभावों के लिए ज़िम्मेदारी नहीं लेता है. आपके लिए उपलब्ध टैक्स बेनिफिट जानने के लिए कृपया अपने टैक्स सलाहकार से सलाह लें.

  • @पॉलिसी के तहत देय सभी प्रीमियम, शुल्क और ब्याज़ में लागू टैक्स, शुल्क, सरचार्ज, सेस या लेवी शामिल हैं, जो पॉलिसीहोल्डर द्वारा पूरी तरह से भुगतान/वहन किए जाएँगे, इसके अलावा ऐसे प्रीमियम, शुल्क या ब्याज़ का भुगतान भी किया जाएगा टाटा एआईए लाइफ़ के पास पॉलिसी के तहत देय फायदों में से किसी भी सांविधिक या प्रशासनिक निकाय द्वारा लगाए गए किसी भी टैक्स या लगाए गए टैक्स की राशि का क्लेम करने, उसमें कटौती करने, उसमें बदलाव करने और उसे रिकवर करने का अधिकार है

  • इस पॉलिसी में, निवेश पोर्टफोलियो में निवेश का जोखिम पॉलिसीहोल्डर द्वारा वहन किया जाता है

  • लिंक किए गए इंश्योरेंस प्रॉडक्ट कॉन्ट्रैक्ट के पहले पांच सालों के दौरान किसी भी तरह की लिक्विडिटी ऑफ़र नहीं करते हैं. पॉलिसीहोल्डर लिंक्ड इंश्योरेंस प्रॉडक्ट्स में निवेश किए गए पैसे को पूरी तरह या पार्शियली रूप से पाँचवे साल के अंत तक सरेंडर/निकाल नहीं पाएगा.

  • पिछली परफॉरमेंस भविष्य की परफॉरमेंस की संकेत नहीं है.

  • कंपनी द्वारा किए गए सभी निवेश बाजार के जोखिमों के अधीन हैं. कंपनी किसी भी सुनिश्चित रिटर्न की गारंटी नहीं देती है. बाज़ार को प्रभावित करने वाले कई कारकों के आधार पर निवेश से होने वाली आय और कीमत कम होने के साथ-साथ बढ़ भी सकती है.

  • अपने वित्तीय या अन्य पेशेवर सलाहकारों से परामर्श करने के बाद कृपया खुद से निर्णय लें.

  • ~हाल के वार्षिक ऑडिट आंकड़ों के मुताबिक, वित्त वर्ष 2022 - 23 के लिए इंडिविजुअल डेथ क्लेम सेटलमेंट रेश्यो 99.01% है.